वायर की कंटिन्यूटी टेस्ट और शॉर्ट सर्किट टेस्ट: जानिए क्यों हैं जरूरी!

वायर या केबल की continuity test और short circuit test एक महत्वपूर्ण प्रक्रिया है जो इलेक्ट्रिकल और इलेक्ट्रॉनिक्स विज्ञान में प्रयोग होती है। यह टेस्टिंग प्रक्रियाएं सुरक्षा और सही चालू अवस्था को सुनिश्चित करने के लिए की जाती हैं, जिससे किसी भी वायर या केबल की अच्छाई या बुराई का पता लगाया जा सकता है।

दोस्तों आप जब डॉक्टर के पास अपने किसी बीमारी का इलाज करवाने जाते हैं तब डॉक्टर आपको कुछ टेस्ट करने के लिए कहते हैं। टेस्ट के रिपोर्ट्स देखने के बाद डॉक्टर दावे के साथ आपको बताते हैं कि आपको क्या बीमारी हुई है। और उसके बाद वह आपको सिर्फ उसी बीमारी का इलाज शुरू कर देते हैं।

कंटिन्यूटी टेस्ट और शॉर्ट सर्किट टेस्ट करना कुछ इसी तरीके से एक इलेक्ट्रिशियन के लिए फायदेमंद होते हैं। इससे आप दावे के साथ कह सकते हैं, की, किसी वायर या केबल में दोष है या नही। अगर दोष मिल जाए तो आप कम समय में उस दोष की मरम्मत कर सकते हैं।

इस ब्लॉग पोस्ट में, हम जानेंगे कि वायर या केबल की continuity test और short circuit test क्यों महत्वपूर्ण हैं और कैसे यह विभिन्न क्षेत्रों में उपयोगी हो सकते हैं।

कंटिन्यूटी टेस्ट (Continuity Test)

वायर या केबल की कंटिन्यूटी टेस्ट (Continuity Test) क्यों ली जाती है?

इलेक्ट्रिक करंट को बहने के लिए एक माध्यम की जरूरत होती है। लेकिन अगर वह मध्यम जैसे की मेटल वायर कहीं बीच से टूट जाए तो इलेक्ट्रिक करंट उस वायर से नही बह सकता। वायर या केबल में इस्तेमाल होने वाले मेटल कंडक्टर कहीं बीच से टूटे हैं या नहीं (Open है या नही) यह पता करने के लिए वायर या केबल की कंटिन्यूटी टेस्ट (Continuity Test) ली जाती है

वायर या केबल की कंटिन्यूटी टेस्ट (Continuity Test) कैसे की जाती है?

कंटिन्यूटी टेस्ट (Continuity Test) आप मल्टीमीटर या सीरीज टेस्ट लैंप  की सहायता से ले सकते हैं।

टेस्ट लैंप क्या होता है? जानने के लिए यहां क्लिक करें..

मल्टीमीटर से वायर या केबल की कंटिन्यूटी टेस्ट (Continuity Test) लेने के लिए नीचे बताई गई क्रियाएं करें।

  • मल्टीमीटर को On पोजिशन में रखें।
  • मल्टीमीटर को कनिन्यूटी (Continuity) पर सेट करें।
  • दोनो प्रॉब्स को मल्टीमीटर में सही जगह पर लगाए।
  • दोनो प्रोब्स को आपस में शॉर्ट करने पर Continuity Indicator के रूप में आपको एक beep सुनाई दे तो मतलब मल्टीमीटर सही से सेट किया गया है।
  • जिस वायर या केबल के कंडक्टर की Continuity Test लेना है, उसके दोनो सिरों पर दोनो प्रॉब्स से एक साथ स्पर्श करें।
  • अगर बीप की आवाज अति है। तो उस वायर या केबल के कंडक्टर में Continuity है। मतलब वह तार कही बीच से टूटा हुआ नही है।
  • अगर बीप ना सुनाई दे तो वह तार कही बीच से टूट चुका हैं (open है) यह समझें।
  • यही क्रिया बाकी कंडक्टरों के साथ दोहराएं।
  • अगर फोल्टी वायर थोड़ी cut करने के बाद फिर से उसकी कंटिन्यूटी टेस्ट (Continuity Test) अगर सही बताए तो वह वायर या केबल फिर से इस्तेमाल की जा सकती है। बशर्ते है वह दूसरे कंडक्टर से शॉर्ट ना हुई हो।
  • वरना वह वायर या केबल बदल देना ही सही होता है।

इस तरह से मल्टीमीटर से किसी वायर या केबल का कंटिन्यूटी टेस्ट (Continuity Test) किया जाता है?

सीरीज टेस्ट लैंप से किसी वायर या केबल का कंटिन्यूटी टेस्ट (Continuity Test) कैसे किया जाता है?

  • सीरीज टेस्ट लैंप On करके टेस्ट लैंप की दोनो वायर्स आपस में शॉर्ट करके टेस्ट लैंप सही है या नही यह एक बार चेक कर लें।
  • जिस वायर या केबल का कंटिन्यूटी टेस्ट (Continuity Test) करना है उसके दोनो सिरों पर टेस्ट लैंप की दोनो वायर्स टच करें
  • अगर टेस्ट लैंप पूरी क्षमता से जल उठे तो समझिए की वायर का वह कंडक्टर सही है।
  • अगर लैंप पूरी क्षमता से ना जले या फिर जले ही ना तो समझिए वायर का वह कंडक्टर कहीं बीच से टूट चुका है।

इस तरह से सीरीज टेस्ट लैंप से किसी वायर या केबल का कंटिन्यूटी टेस्ट (Continuity Test) किया जाता है?

शॉर्ट सर्किट टेस्ट (Short Circuit Test)

वायर या केबल का शॉर्ट सर्किट टेस्ट (Short Circuit Test) क्यों किया जाती है?

एक से ज्यादा वायर या केबल के कंडक्टर कहीं आपस में एक दूसरे के साथ शॉर्ट तो नही हुए हैं। यह पता करने  के लिए शॉर्ट सर्किट टेस्ट की जाती है।

अगर गलती से शॉर्ट सर्किटेड वायर या केबल को इलेक्ट्रिक सप्लाई दिया जाए तो शॉर्ट सर्किट होकर नुकसान हो  सकता है। इसलिए किसी भी इलेक्ट्रिक उपकरण को रिपेयर करते समय उपकरण या कंडक्टर का शॉर्ट सर्किट टेस्ट लेना बहुत ही जरूरी होता है।

वायर या केबल का शॉर्ट सर्किट टेस्ट कैसे करते हैं?

किसी भी विद्युत उपकरण, वायर या केबल का शॉर्ट सर्किट टेस्ट करने के लिए मल्टीमीटर या सीरीज लैंप आपके पास होना चाहिए।

 पहले हम सीखते हैं, की,

मल्टीमीटर से शॉर्ट सर्किट टेस्ट कैसे किया जाता है?

  • मल्टीमीटर ऑन करके उसे Continuity पर सेट कर लें।
  • दोनो प्रोब्स मल्टीमीटर सही जगह पर लगा लें।
  • दोनो प्रोब्स आपस में शॉर्ट करके चेक कर ले सही हैं या नही।
  • जो भी उपकरण या केबल के दो कडंक्टर जिसका आपको शॉर्ट सर्किट टेस्ट करना है। उसके दोनो सिरों पर probs टच करें। (केबल की शॉर्ट सर्किट टेस्ट लेने से पहले यह ध्यान दे की उस केबल के सभी कंडक्टर के सिरे किसी टर्मिनल से जुड़े ना हो। सारे सिरे ओपन करके एक दूसरे से अलग कर लें।)
  • अगर बीप की आवाज सुनाई दे तो समझिए दोनो पॉइंट्स आपस में एक दूसरे से कही न कही शॉर्ट हुए हैं। ऐसी स्थिति में आप us उपकरण या वायर्स में सीधे इलेक्ट्रिक सप्लाई नहीं दे सकते। ऐसा करने पर शॉर्ट सर्किट होगा।
  • अगर यह test करने पर बीप की आवाज ना आए और साथ ही मल्टीमीटर के डिस्प्ले पर कुछ resistance show होने लगे तो समझिए दोनो पॉइंट्स आपस में शॉर्ट नही हैं। Electric सप्लाई देने के लिए उचित हैं।

इस तरह मल्टीमीटर से शॉर्ट सर्किट टेस्ट किया जाता है?

सीरीज टेस्ट लैंप से शॉर्ट सर्किट टेस्ट कैसे किया जाता है?

  • टेस्ट लैंप ऑन कर लेने के बाद दोनो तारों को आपस में टच करके एक बार चेक कर लें।
  • जिस भी उपकरण या केबल के दो या दो से ज्यादा कंडक्टर्स का शॉर्ट सर्किट टेस्ट करना है उसके दोनो सिरों पर सीरीज टेस्ट लैंप के दो तार स्पर्श करें। (केबल की शॉर्ट सर्किट टेस्ट लेने से पहले यह ध्यान दे की उस केबल के सभी कंडक्टर के सिरे किसी टर्मिनल से जुड़े ना हो। सारे सिरे ओपन करके एक दूसरे से अलग कर लें।)
  • अगर टेस्ट लैंप के तार दो सिरों को स्पर्श करने पर लैंप पूरी क्षमता से जलता है। तो वह दोनो पॉइंट्स आपस में शॉर्ट हुए हैं। यह निश्चित होता है।
  • अगर लैंप बिल्कुल ना जले तो वह पॉइंट्स आपस में शॉर्ट नही हैं ऐसा समझें।

इस तरह सीरीज टेस्ट लैंप से शॉर्ट सर्किट टेस्ट किया जाता है।

इस ब्लॉग पोस्ट में, हमने वायर या केबल की continuity test और short circuit test के महत्व को समझा और उन्हें कैसे किया जाता है यह जानने का प्रयास किया।

कंटिन्यूटी टेस्ट के माध्यम से हम वायर या केबल के कंडक्टरों के बीच किसी टूटी जगह को पहचान सकते हैं, जबकि शॉर्ट सर्किट टेस्ट से हम शॉर्ट सर्किट की स्थिति को जांच सकते हैं।

यह दोनों टेस्टिंग प्रक्रियाएं उपकरणों और केबलों की सुरक्षा और सही फ़ंक्शनिंग को सुनिश्चित करने में मदद करती हैं, जिससे आपके इलेक्ट्रिकल प्रोजेक्ट्स में बेहतर और सुरक्षित रूप से काम किया जा सकता है।

2/5 - (1 vote)
हमारा WhatsApp चैनल फॉलो करेंयहाँ क्लिक करे
हमारा टेलीग्राम चैनल फॉलो करेंयहाँ क्लिक करे

अपना अभिप्राय दर्ज करें